अमरीकी शेयर होल्डर्स को अब सी.ई.ओ. चंदा कोचर पर विश्वास नहीं

0
379

मुंबई: आई.सी.आई.सी.आई. बैंक के अमरीकी शेयर होल्डर्स को अब सी.ई.ओ. चंदा कोचर पर विश्वास नहीं रहा है।

वे चाहते हैं कि वह बैंक छोड़ दें। मैक्वेरी विश्लेषक सुरेश गणपति ने इन निवेशकों से मुलाकात के बाद 20 जून को एक नोट जारी कर यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि अमरीकी निवेशकों को कोचर के उत्तराधिकारी बारे विश्वास नहीं है और वे बाहरी व्यक्ति के हाथ बैंक की कमान देना चाहते हैं।

गणपति ने इस तथ्य को इंगित करते हुए कहा कि बोर्ड अपनी जिम्मेदारी निभाने में असमर्थ रहा है। जिस तरह से अध्यक्ष ने पूरे मुद्दे को संभाला था उससे वे निराश थे।

अमरीकी निवेशकों के विचार महत्वपूर्ण हैं क्योंकि आई.सी.आई.सी.आई. के पास अमरीकी डिपॉजिटरी रेसीप्स का एक विशाल फ्लोटिंग स्टॉक है और इसे भारतीय अर्थव्यवस्था के बैलवेटर्स में से एक माना जाता है। गणपति ने कहा कि अमरीकी निवेशकों का मानना है कि बैंक की आंतरिक संस्कृति को बदलने के लिए बाहरी व्यक्ति की जरूरत है।

विवादों के चलते शेयरों ने नहीं किया अच्छा प्रदर्शन
वे फर्म के मूलभूत सिद्धांतों पर ज्यादा सवाल नहीं उठा रहे हैं। उन्हें पता है कि स्टॉक सस्ता है, अच्छी तरह से पूंजीकृत है, जमा फ्रैंचाइजी उत्कृष्ट है।

गणपति ने कहा कि हाल के विवादों के चलते शेयर ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है। बोर्ड द्वारा अनिश्चितकालीन छुट्टी पर चंदा कोचर को भेजे जाने के एक दिन बाद उनका नोट आया था।

जब तक कि बी.एन. श्रीकृष्ण की जांच खत्म नहीं हो जाती तब तक आई.सी.आई.सी.आई. प्रूडैंशियल लाइफ  के सी.ई.ओ. संदीप बख्शी को बैंक में सीधे सी.ओ.ओ. रिपोॄटग के रूप में बैंक में लाया गया है ।

सी.ई.ओ. के रूप में अंदरूनी व्यक्ति बारे आश्वस्त नहीं निवेशक
गणपति ने कहा कि वे (अमरीकी निवेशक) सी.ई.ओ. के रूप में नियुक्त किए जाने वाले अंदरूनी व्यक्ति बारे बहुत आश्वस्त नहीं हैं।

उनका मानना है कि संगठन की संस्कृति और डी.एन.ए. को बड़े पैमाने पर बाहरी व्यक्ति द्वारा बदला जा सकता है।

यदि बाहरी उम्मीदवार को सी.ई.ओ. नियुक्त किया जाता है तो वे अधिक आत्मविश्वास में होंगे। ये निवेशक बैंक के स्टॉक को तब तक मैनटेन करने की उम्मीद नहीं करते जब तक कि कॉर्पोरेट प्रशासन के मुद्दों को हल नहीं किया जाता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here